दूध पीने के तरीके और फायदे क्या हैं? | What are the methods and benefits of drinking milk?

दूध पीने के तरीके और फायदे क्या हैं?

मनुष्य के भोजन के लिए अब तक जितने पदार्थों की खोज की गई है दूध का स्थान उनमें बहुत ऊँचा है। यद्यपि जन्म लेने के बाद शैशवावस्था में हम सबको कुछ समय तक दुध पर ही निर्भर रहता पड़ता है और उसके बाद भी कई वर्षों तक शरीर को उचित पोषण मिलने के लिए अन्य खाद्य-पदार्थों के साथ दुध का प्रयोग अनिवार्य माना जाता है, पर दूध की उपयोगिता इतने पर ही समाप्त नहीं हो जाती। जो लोग स्वास्थ्य-रक्षा के प्रति जागरूक होते हैं, आजीवन दूध का प्रयोग न्यूनाधिक मात्रा में करते ही रहते हैं और इसके फलस्वरूप निस्संदेह वे अनेक रोगों और निर्बलता से बचे रहकर शक्ति-संपन्‍न जीवन व्यतीत करते हैं। फिर भी हम दूध पीने के तरीके और फायदे से भली भांति परिचित नहीं हैं।

तो आइये इस आर्टिकल के माध्यम से समझते हैं कि दूध पीने के तरीके और फायदे क्या हैं? वैसे तो कहने की आवश्यकता नहीं कि भारतवर्ष में दूध का यह महत्त्व आज से नहीं हजारों वर्षों से ज्ञात है और एक समय ऐसा था जबकि वास्तव में इस देश में ‘दूध की नदियाँ’ बहती थीं। वेदों के अध्ययन से पता चलता है कि उस अति प्राचीन युग के भारतवासियों का मुख्य आहार दूध ही था। उस समय जंगलों और चरागाहों की अधिकता से प्रत्येक गृहस्थ सैकड़ों-हजारों गायें पाला करता था और उनसे आवश्यकतानुसार पर्याप्त दूध सहज में मिल जाता था। उस समय खेती का प्रचार भी आरंभिक अवस्था में था और मनुष्य थोड़ा-बहुत जौ, मोटा चावल आदि पैदा करके ही काम चला लेवे थे। सच बात तो यह है कि दूध जैसा पौष्टिक और शरीर की सब आवश्यकताओं की पूर्ति करने वाला पदार्थ मनमानी मात्रा में मौजूद होते से अन्य प्रकार के यत्नसाध्य खाद्यों को उत्पन्न करने की उन्हें आवश्यकता भी प्रतीत न होती थी। फल भी पर्याप्त श्रेष्ठ आहार है पर उपयुक्त फलों की प्राप्ति प्राचीन काल में भी सर्व-सुलभ नहीं थी और इस समय तो अत्यंत व्ययसाध्य हो गई है। इसलिए फलों पर पूर्ण रूप से निर्वाह करने बालों की संख्या सदा अल्प ही रही है। 

भारतीय शास्त्रों तथा धर्म-ग्रंथों में गौ की जो अपार महिमा लिखी है, उसका मुख्य कारण उसका अमृतोपम दूध ही है। दूध को प्राचीन विद्वानों ने भूलोक का अमृत बतलाया है और उसके प्रयोग से महान फलों की प्राप्ति के उदाहरण लिखे हैं। जब सूर्यवंश के प्रतापी महाराज दिलीप ने अपनी संतानहीनता के निवारण का उपाय महर्षि वसिष्ठ से पूछा तो उन्होंने उन दोनों पति-पत्नी को कुछ समय तक सब कार्य छोड़कर एकाग्र भाव से गौ-सेवा और दुग्ध-कल्प का निर्देश किया। महाराज दिलीप और उनकी पत्नी तन-मन से गौ-सेवा करने लगे और उसी के दूध का सेवन करने लगे। इसके फल से कुछ ही समय में उनका शरीर ऐसा निर्मल हो गया कि उनका मनोरथ पूर्ण हुआ और श्रेष्ठ संतान की प्राप्ति हुई। महाराज दशरथ ने भी संतान के लिए जो यज्ञ-आयोजन किया, उसमें उनकी रानियों को मुख्यतः दूध से बनी खीर का ही सेवन कराया गया था। वैद्यक ग्रंथों में सैकड़ों कठिन रोगों में गौ-दुग्ध सेवन का ही विधान है। वास्तव में स्वास्थ्य को उत्तम बनाए रखने और जीवन का सुख पाने के लिए दूध का प्रयोग अनुपम ही है। 

भारतीय वैद्य ही नहीं, यूनानी चिकित्सा के अनुयायी हकीम और यूरोपियन डॉक्टर भी सदा से दूध के महान गुणों को जानते और मानते आए हैं। हकीमों के मतानुसार ज्वर को दूर करने के लिए दूध से बढ़कर और कोई साधन नहीं। यूरोप के डॉक्टर हाफमैन ने एक जगह लिखा है–” पुराने जमाने से रोगियों के लिए दूध का प्रयोग ऐसा अनिवार्य साधन रहा है जैसा जहाज के लिए लंगर।”’ अन्य विद्वानों तथा अनुभवी पुरुषों ने भी दूध की ऐसी ही प्रशंसा की है और उसे सब तरह के रोगों तथा शारीरिक त्रुटियों के लिए लाभजनक बताया है। 

दीर्घ जीवन का साधन 

दूध के भोजन से स्वभावत: ही मनुष्य का स्वास्थ्य रोगदोषों से इतना बचा रहता है कि उसकी शक्ति शीघ्र ही क्षीण नहीं होती और वह प्राय: दीर्घजीवी होता है । स्वास्थ्य-विज्ञान के ज्ञाताओं के मतानुसार बुढ़ापा और निर्बलता का मुख्य कारण शरीर कौ नस-नाड़ियों में विजातीय द्रव्य इकट्ठा होना बतलाया गया है। इसका कारण प्राय: गरिष्ठ और तरह-तरह के अस्वाभाविक भोजन करना होता है। पर दूध का आहार आँतों से विजातीय द्रव्य को बाहर निकालकर उन्हें शुद्ध बनाता है। दीर्घायु व्यक्तियों की जाँच करने वाले डॉक्टरों ने पता लगाया है कि आजकल सबसे अधिक संख्या में दीर्घजीवी बलगेरिया में पाए जाते हैं और इसका कारण यही है कि वहाँ के निवासी काफी गायें पालते हैं और हँसी का व्यवहार करते हैं। रूसी डॉक्टर मैचनिकाफ ने बहुत वर्षों पहले घोषित किया था कि दूध से बने मठा या छाछ में आँतों में पाए जाने वाले रोग-कीटाणुओं को नष्ट करने की अद्भुत शक्ति है और जो व्यक्ति दीर्घजीवन की कामना करते हैं, उनको अवश्य ही नियमित रूप से मठा और दूध का प्रयोग करना चाहिए। 

एक विद्वान का कथन है कि एक सेर दूध में जितना जीवन तत्त्व होता है, उतना तीन सेर मांस या ८ अंडे अथवा डेढ़ सेर काडलिवर से प्राप्त हो सकता है। इससे स्पष्ट है कि जो व्यक्ति प्रतिदिन सेर या आधा सेर दूध का सेवन करते रहते हैं, वे अपने शरीर को बड़ी उपयोगी और बहुमूल्य जीवन-सामग्री देते रहते हैं । प्रतिदिन कार्य करने से हमारे शरीरस्थ अणुओं (सेलों) की जो टूट-फूट होती है, उनकी सबसे अच्छी पूर्ति दूध द्वारा ही होती है, क्योंकि इसमें शरीर-निर्माण के समस्त तत्त्व उचित परिमाण में मिले रहते हैं। पर अन्य प्रकार के आहारों से, जो कठिनाई से पचते हैं अथवा जो मानव प्रकृति की दृष्टि से अस्वाभाविक होते हैं, नए सेलों का निर्माण ठीक ढंग से नहीं हो पाता और निर्बलता उत्पन्न होने लगती है।

दूध के गुणकारी तत्त्व 

दूध का अधिकांश (लगभग ८७ प्रतिशत) जल होता है। शेष १३ प्रतिशत में चिकनाई, चीनी, चूना, प्रोटीन आदि पदार्थ होते हैं। गंधक, फास्फोरस, लोहा, सोडियम, पोटेशियम, मैग्नीशियम, आयोडीन, खनिज-पदार्थ भी अल्प मात्रा में पाए जाते हैं। दूध की चिकनाई को वैज्ञानिकों ने सर्वोत्तम बताया है। पर इसका आशय घी या मक्खन से नहीं है। जब तक यह चिकनाई दूध में मिली रहती है तभी तक वह सुपाच्य मानी जाती है और सहज में शरीर में मिल जाती है । इसका कारण यही है कि यह चिकनाई बहुत ही सूक्ष्म कणों के रूप में समस्त दूध में फैलती रहती है और इसके लिए घंटे भर में ही रस और रक्त में मिल जाती है। इसके प्रभाव से हमारे शरीर में हड्डियों के जोड़ और संधि-बंधन लचीले बने रहते हैं, पर जैसे-जैसे यह मलाई, मक्खन और घी के रूप में परिवर्तित होती जाती है, वैसे-वैसे ही अधिकाधिक गरिष्ठ और दुष्पाच्य बन जाती है। इसलिए मलाई आदि से कितने ही लोगों को अपच, दस्त, उलटी आदि की शिकायतें पैदा हो जाती हैं । 

दूध में लोहे की मात्रा भी बहुत कम होती है, पर यह लोहा भी अत्यंत सूक्ष्म अवस्था में होने से सहज ही रक्त में मिल जाता है। लोहे से ही रक्त का रंग लाल बनता है। इसलिए जो लोग नियमित रूप से दूध का व्यवहार करते रहते हैं, उनका रक्त प्राय: शक्तिशाली रहता है और रोगों का मुकाबला अच्छी तरह कर सकता है। अन्य अनेक पदार्थों में भी लौह पाया जाता है और शक्तिवर्द्धन के उद्देश्य से खाई जाने वाली ‘टानिकों’ में भी उसका सम्मिश्रण होता है, पर वह रक्त में शीघ्र नहीं मिल पाता और इससे उतना लाभजनक नहीं होता, जितना दूध में मिला हुआ लौह होता है। 

लैक्टोज या दूध की चीनी में कई विशेषताएँ पाई जाती हैं। हमारी बड़ी आँत (मलाधार) उसे बहुत जल्दी सोख लेती है और उसके प्रभाव से उसकी बहुत-सी खराबियाँ सहज में दूर हो जाती हैं। बच्चों के लिए यह चीनी बड़ी गुणकारी होती है। इसलिए जिन शिशुओं को आवश्यकता पड़ने पर ऊपरी दूध पिलाया जाए, तो उसमें ऊपर से बहुत ही कम चीनी मिलानी चाहिए। इसका ध्यान न रखने से दूध दुष्पाच्य हो जाता है और दूध की नैसर्गिक चीनी का प्रभाव नगण्य रह जाता है। 

कैल्शियम तथा फास्फोरस भी दूध में पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं और ये हड्डियों के निर्माण और सुदृढ़ता के लिए आवश्यक माने गए हैं। इसलिए जिन बालकों को आरंभ से शुद्ध दूध मिलता रहता है, उनकी वृद्धि अपेक्षाकृत शीघ्र होती है और उनका शरीर पुष्ट तथा शक्ति-संपन्‍न हो जाता है। दूध में पाया जाने वाला प्रोटीन बहुत उच्च-कोटि का होता है और उससे शारीरिक अंगों के निर्माण में बड़ी सहायता मिलती है। मांस-भोजन के पक्षपाती प्रोटीन की अधिकता के कारण ही उसे उपादेय बतलाते हैं, पर मांस की प्रोटीन दूध की प्रोटीन की तुलना में बहुत घटिया होती है और सबसे बड़ी बात तो यह है कि वह दूध की प्रोटीन की अपेक्षा बहुत देर में पचती है।

दूध में पाए जाने वाले विटामिन 

सन्‌ १८८५ ई. में जापानी सेना के बहुसंख्यक सिपाहियों में बेरी-बेरी का रोग फैल गया। उसके कारणों की जाँच करते हुए डॉक्टरों को यह शंका हुई कि. इसका कारण कदाचित मशीन के द्वारा साफ किए हुए चावलों का प्रयोग करना है। तब उन्होंने सिपाहियों को साधारण रीति से चावल साफ करने का आदेश दिया और उससे वह रोग मिट गया। इस घटना से वैज्ञानिक इस निर्णय पर पहुँचे कि खाद्य पदार्थों में कोई ऐसी प्रभावशाली शक्ति होती है, कि जिसके पृथक हो जाने पर वह पदार्थ जैसा का तैसा दिखाई पड़ने पर भी प्रभावहीन हो जाता है। तबसे खाद्य-वैज्ञानिक निरंतर इस बात की खोज करते रहे और सन्‌ १९१२ में डॉ० फंक ने यह सिद्ध किया कि सब खाद्य-पदार्थों में ‘विटामिन’ नाम का एक रासायनिक तत्त्व रहता है। यही तत्त्व प्राणियों के शरीर में जीवनीशक्ति की वृद्धि करता है और स्वास्थ्य को स्थिर रखता है। उसके पश्चात यह खोज जारी रही और पाँच प्रकार के मुख्य तथा अन्य कई प्रकार के गौण विटामिन के नाम तथा लक्षण निर्धारित कर दिए गए। 

वैज्ञानिकों ने इस बात का भी अन्वेषण किया है कि कौन-सा विटामिन किस पदार्थ में कितने परिमाण में है? अंत में बहुत अधिक परिश्रम तथा जाँच-पड़ताल के बाद उन्होंने समस्त मुख्य खाद्य-पदार्थों में पाए जाने वाले विटामिनों की एक तालिका (नक्शा) बनाकर तैयार कर दी है, जिससे एक सामान्य व्यक्ति भी यह निर्णय कर सके कि उसके शरीर को जिस विटामिन की आवश्यकता है, वह उसे पर्याप्त परिमाण में सुविधापूर्वक किस पदार्थ का प्रयोग करने से प्राप्त हो सकेगा। 

इस नक्शे पर दृष्टि डालने से स्पष्ट प्रतीत होता है कि “विटामिन’ अथवा ‘खाद्य-प्राण’ की दृष्टि से दूध का स्थान बहुत ऊँचा है। यों पालक, सलाद (लेटिस) आदि २-४ हरे पत्तेदार शाकों को यदि कच्चा खाया जाए तो उनमें सबसे अधिक विटामिन प्राप्त हो सकते हैं। पर जिन ऊँचे दर्जे की भोज्य वस्तुओं का प्रयोग हम अधिक परिमाण में नियमित रूप से किया करते हैं, उनमें दूध का ही स्थान सर्वोपरि है। लोग मांस, मछली, अंडे आदि को बहुत ताकतवर बतलाया करते हैं, पर ये तमाम पदार्थ विटामिन की निगाह से दूध से घटकर हैं । यही कारण है कि दूध का ठीक ढंग से व्यवहार करने वालों का शरीर और स्वास्थ्य निर्दोष तथा स्थायी रहता है। दूध-दही का सेवन करने वाले दीर्घजीवी होते हैं, यह हम पहले ही बतला चुके हैं। 

ताजा दूध में ए, बी, सी, डी, ई, पाँचों मुख्य विटामिन तथा बी १ और बी २ दोनों उप-विटामिन पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं। मांस-मछली आदि किसी आमिष जातीय पदार्थ में ये सातों विटामिन एक साथ नहीं मिलते। इन विटामिनों में सबसे प्रथम स्थान विटामिन ‘ए’ का है, जिससे शरीर को उचित पोषण प्राप्त होता है और वृद्धि की गति संतोषजनक रहती है। जिन बच्चों को यह विटामिन ठीक नहीं मिलता, उनकी हड्डियाँ निर्बल हो जाती हैं और सूखा रोग हो जाता है। इसकी कमी से बड़ी आयु वालों को भी कई तरह के नेत्र-रोग, क्षय, खांसी, संग्रहणी आदि हो जाती है। दूध से यह विटामिन बहुत अच्छे रूप में मिलता है और यदि पकाने में उसे नष्ट कर न दिया जाए तो उपयुक्त सब शिकायतें दूर हो सकती हैं। 

विटामिन ‘बी ‘ भी दूध में पाया जाता है। यह ज्ञान-तंतुओं के पोषण के लिए अनिवार्य माना गया है। हड्डियों के जोड़ों को भी यह ठीक दशा में रखता है। इस देश में जो लूले, लँगड़े, कुबड़े अधिक संख्या में पाए जाते हैं, इसका एक कारण यह भी है कि दुग्धाभाव से उनको विटामिन “बी” नहीं मिलता और इससे उनमें अस्थि-संबंधी दोष पैदा हो जाते हैं। 

विटामिन ‘सी’ के अभाव से दाँतों और मुँह के रोग विशेष रूप से उत्पन्न होते और बढ़ते हैं। पायरिया नामक जिस भयंकर मुख-रोग ने आज लाखों नए फैशन वालों का स्वास्थ्य नष्ट कर रखा है, वह विटामिन ‘सी’ की कमी की ही देन है, संधियों का कड़ापन और दरद, गठिया और रुधिर की न्‍्यूनता और आलस बना रहना आदि शिकायतें विटामिन ‘सी ‘ द्वारा सहज में दूर की जा सकती हैं। दूध में यह विटामिन पाया जाता है, पर यह दूध को बरतन में उबालने से शीघ्र नष्ट हो जाता है। इसलिए जिन लोगों को दूध के इस विटामिन का लाभ उठाना हो, उनको दूध बंद बरतन में भाप पर उबालना चाहिए। 

विटामिन ‘डी’ और ‘ई’ भी दूध में पाए जाते हैं और इनसे शरीर रक्षणशक्ति तथा संतानोत्पादक शक्ति की वृद्धि होती है। विटामिन ‘डी’ के अभाव से संधिवात तथा मधुमेह की बीमारियाँ उत्पन्न हो जाती हैं और विटामिन ‘ई” की कमी से पुरुषों में नपुंसकता और स्त्रियों में वंध्यत्व का दोष बढ़ जाता है। 

आशा है आपको यह आर्टिकल आपको जरूर अच्छा लगा होगा, अगले आर्टिकल मॆं आपको विभिन्न पशुओं के दूध्और उससे होने वाले लाभ के बारे में चर्चा करेंगे। 

धन्यवाद।

Leave a Comment

Share via